औरतें कोई बात अपने पेट में क्यों नहीं पचा पाती जाने इसका रहस्य ?

औरतें कोई बात अपने पेट क्यों नहीं पचा पाती जाने इसका रहस्य
औरतें कोई बात अपने पेट क्यों नहीं पचा पाती जाने इसका रहस्य
औरतें कोई बात अपने पेट क्यों नहीं पचा पाती जाने इसका रहस्य

औरतें अपने पेट में कोई बात क्यों नहीं पचा पाती ये बात महाभारत से जुडी हुई है आज हम आप को युधिष्ठिर के द्वारा औरतों को दिए गए श्राप के बारे में बताएँगे

युधिष्ठिर का औरतों को दिया गया श्राप

दोस्तों जैसा की आप जानते है की कर्ण कुंती का सूत पुत्र था,जो की सूर्य के वरदान के कारन कुंती को प्राप्त हुए थे और लोकलाज के कारन कुंती ने ये बात किसी को नहीं बताई, और कर्ण का पालन पोषण एक छोटी जाती में हुवा और जब वह बड़ा हुवा तो उसकी मित्रता दुर्योधन से हुई इसी कारण कर्ण कौरवों की तरफ से लड़ रहा था और जैसा की आप जानते है की कर्ण और अर्जुन में भयानक युद्ध हुवा और अंत में अजुन के हांथों कर्ण मारा गया, कर्ण के मरने के बाद माता कुंती कर्ण की मृत शरीर के पास बैठ के रोने लगी तो पांडवों को ये बात बड़ी अजीब लगी तो युधिष्ठिर ने माता कुंती से पूछा की माता ये तो हमारा दुशमन था तो आप इसकी मरने के गम में क्यों रो रही हो तो माता कुंती ने बताया की यह तुम्हारा बड़ा भाई था, इस बात को सुन कर पांडवों को बड़ा अजीब लगा और अफ़सोस भी हुवा , तो फिर युधिष्ठिर माता कुंती से बोले की माँ आप की एक बात छुपाने से हमने हमारे ही भाई को मार दिए | इस बात पर क्रोधित होकर युधिष्ठिर ने सारी औरत जात को श्राप दिया की औरते कभी भी कोई बात छुपा नहीं पाएंगी |

और युधिष्ठिर के इसी श्राप के कारण औरतें अपने पेट में कोई बात नहीं पचा पाती |

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of